पटनाः विधानसभा चुनाव में भागीदारी को जुटेंगे तेली समाज के लोग

97

पटना। सूबे में तेली समाज की आबादी सात फीसदी है। इसके बावजूद विधान परिषद या राज्यसभा से इस समाज के लोगों का प्रतिनिधित्व शून्य है। इसी समाज के लोग सबसे अधिक प्रताड़ित हो रहे हैं।
यह बातें बिहार तैलिक साहू सभा की ओर से विधानसभा चुनाव में ‘तेली समाज की भूमिका’ विषय पर आयोजित बैठक में अध्यक्ष रणविजय साहू ने कहीं।
उन्होंने कहा कि हत्या, रंगदारी व अपहरण के कई मामलों में पीड़ित रहे इस समाज के लोगों ने अब विद्रोह का बिगुल बजाया है। अगले विधानसभा चुनाव में इस समाज की हिस्सेदारी के लिए अगले साल अप्रैल में पूरे बिहार के विभिन्न पार्टियों के लाखों लोग गांधी मैदान में जुटेंगे। अपने राजनीतिक अधिकारों के लिए इस बैठक में प्रखंड व जिलों की कार्यकारिणी के सदस्य भविष्य की राजनीति की दिशा तय करेंगे। अगले विधानसभा चुनाव में तेली समाज महत्वपूर्ण भूमिका में होगी। श्री साहू ने कहा कि इस बार दो लाख से अधिक सक्रिय सदस्य बनाने का लक्ष्य रखा गया है।
इस मौके पर संगठन के उपाध्यक्ष धर्मेंद्र कुमार, महेंद्र साहू, प्रो. संजय कुमार, अमरेंद्र कुमार, रंजय दास, डाॅ. माधुरी गुप्ता, विनय कुमार साहू, अवधेश गुप्ता, सुरेंद्र गुप्ता व अन्य लोग मौजूद रहे।

LEAVE A REPLY