नागपुर: सुभाष घाटे का प्रयास रंग लाया बर्खास्त किए गए कर्मचारी वापिस लिए गए

42
समाजसेवी सुभाष घाटे।

नागपुर। नागपुर महानगरपालिका से बर्खास्त किए गए 17 कर्मचारी विगत कई वर्षों से न्याय के लिए लड़ाई लड़ रहे थे और हाईकोर्ट से भी उनके पक्ष में फैसला आ गया है। मुख्यमंत्री द्वारा भी इस बारे में फैसला लेने का अधिकार नागपुर महानगरपालिका आयुक्त को दिया गया है। जिस पर 16 कर्मचारियों को नौकरी में शामिल किया गया। गौरतलब हो कि सुभाष घाटे ने इन कर्मचरियों के साथ अन्याय होने पर परिवार सहित आगामी 15 अगस्त को आत्मदहन करने की चेतावनी दी थी। जिस पर तुरंत एक्शन लेते हुए महानगरपालिका ने 16 कर्मचारी को नियुक्ति पत्र देकर वापिस बुलाया और सभी कर्मचारियों ने अपना-अपना पदभार संभाला।
सुभाष घाटे ने बताया कि मुख्यमंत्री ने सभी 17 कर्मचारियों को काम पर लेने का अधिकार महानगरपालिका आयुक्त को दिए हैं जिस पर 05 अगस्त सोमवार को 17 में से 16 कर्मचरियों ने अपना-अपना पदभार संभाला। उल्लेखनीय है कि सुभाष घाटे भाजपा ओबीसी मोर्चा के विदर्भ विभागीय अध्यक्ष भी हैं। साथ ही वह तेली समाज के नेता भी हैं। उन्होंने बताया कि कुल 17 कर्मचारियों में 8 साहू समाज के कर्मचारी भी हैं। हालांकि 17 में एक कर्मचारी की मृत्यु हो चुकी है।

LEAVE A REPLY